जल- सार्वभौमिक विलायक




जल को क्यों सार्वभौमिक विलायक कहा जाता है? कोई भी पदार्थ जो किसी अन्य पदार्थ को घोलने में सक्षम होता है, विलायक कहलता है। जल किसी अन्य रासायनिक की तुलना में अधिक यौगिकों को घोल सकता है । इसलिए सार्वभौमिक विलायक कहलता है। जल इतना विशेष क्यों है? इसका मुख्य कारण यह है कि पानी के अणु ध्रुवीय प्रकृति का होता है। यह महत्वपूर्ण क्यों है? क्योंकि हमारे शरीर में अधिकांश प्रक्रियाएँ (विशेषतोर से जीवों में) तरल माध्यम में होती हैं, तथा जल इसमे एक महत्वपूर्ण घटक है। इसलिए हमारे शरीर की सभी प्रक्रियाएँ पानी की इस गुण पर निर्भर करता है, चाहे वह भोजन के पाचन की क्रिया हो या सभी शरीर के अंगों में ऑक्सीजन के हस्तांतरण।

गुर्दा शरीर से कचरे को बाहर निकालने का कार्य करता है, वही जल इसे घोल कर हमारे शरीर से बाहर निकाल देता है।


अगला तथ्य >>
जल- केशिका क्रिया